रात रंगीन करने आई जन्नत की हुर

Click to this video!

loading...
loading...

मेरे घर कुछ दिन पहले मेरी छोटी दादी(पिताजी की चाची) आई। उनके साथ कोई उनके मायके की भतीजी थी। उन्हें मेरे ही कमरे में ठहराया गया। मेरी पारखी नज़रों ने मुझे बताया कि चांस मारा जा सकता है। फ़िर मुझे पता चला कि उनके पति स्वर्गवासी हैं, तो मैंने कुछ भी ऐसा-वैसा करने का इरादा छोड़ दिया। पर उन्होंने मेरा हौसला खाने के वक्त बढ़ाया। मेज़ के नीचे बार-बार मेरा पैर अपने पैर से रगड़ती रहीं। फ़िर मैंने ख्याल किया उनके नीचे गले वाले ब्लाउज से बाहर झांकते स्तनों का। कुछ नहीं तो 36 सी आकार रहा होगा।

मेरा तो कलुआ खुशी से उठ खड़ा हुआ जब पता चला कि उन्हें मेरे कमरे में ठहराया गया है। वे मेरे बिस्तर पर चैन से सो रहे थे। दादी साइड में थी। सीमा – उनका नाम था- किनारे पर इस तरफ थी और मैं अपने सिस्टम पर प्रोग्रामिंग का अभ्यास कर रहा था। पर दिमाग अलग ही प्रोग्रामिंग में लगा था।

जब मैंने देख लिया कि अब सब गहरी नींद में हैं तो उठा। अभी मुझे चेक करना था कि क्या सही में सीमाजी और कितनी हद तक एक्सेसिबल हैं। मैंने कम्बल ओढ़ाने के बहाने उनके एक बेल को मसला। उनकी आंख झट से खुली। मैं डरा, पर उनकी मुस्कान ने मुझे ग्रीन सिग्नल दे दिया। फिर दादी को कम्बल ओढ़ाने के बाद मैंने उनके कम्बल को पैर से सर तक सही किया, एक बार। वो भी एकदम अच्छे तरीके से। पर देखा दादी अभी करवट ले रही है, इसलिये फ़िर से मशीन पर बैठ गया। बैठा था मैं जो करने, वहाँ ध्यान ही नहीं था।

मैं उन लड़कियों और औरतों के बारे में सोच रहा था, जिनके साथ खेला हुआ था, या मैंने करना चाहा था। मुझसे रहा नहीं गया। मैं उठ कर बाथरूम चला गया। वहीं हस्तमैथुन करने लगा, एकदम से भीतर जाकर। तभी मुझे लगा कोई आया बाथरूम में। रात के एक बज रहे थे, सो मैंने बन्द नहीं किया था। पता नहीं कौन होगा, सोचकर मैंने खांसी की। पर देखा कि वो मेरे सामने आकर मुस्कुरा रहीं हैं, सीमाजी !!

मैं सकपका गया। एकदम सावधान खड़ा हो गया। वो मुस्कुराते हुए चली गईं। मैं अब आकर सोफ़े पर एक चादर लेकर सो गया। देखा वो करवटें ले रही थी। और उनकी चूचियाँ छलक-छलक के बाहर आ रही थी। एकबार जब वो शान्त हुई, तो मैंने हिम्मत की। डर मुझे इतना ही था कि ये मेरे पापा की सम्बंधी लगती एक रिश्ते में, बस।

मैं उनके छाती पर धीरे-धीरे उंगलियों से हरकत कर रहा था। थोड़ी देर बाद पूरे हाथ से दबाना शुरू किया उनके बेल के आकार के स्तनों को। उन्होंने अपने दोनों हाथ जांघों के भीतर दबा कर डाल लिये। जगी तो वो थी ही, अब आंखें भी खोल ली उन्होंने और मुझे इशारा किया ब्लाउज खोलने को। पैकिंग और अनपैकिंग के काम मेरा हाथ तेज है।

मैंने झट-पट ब्लाउज के साथ ब्रा भी खोल दिया। अब उनको मस्ती आने लगी थी। पर मैंने होठों पर हाथ रख कर आवाज ना करने को कहा। वो हाथ पैर फेंक कर दादी को डिस्टर्ब करे उससे पहले मैंने उनसे सोफे पर चलने को कहा।
सोफे पर जाते ही उन्होंने मेरा सर अपनी तनी हुई चूचियों वाली छाती पे लगा दिया। मैं भी लगा चूसने कस के। सिसकारी निकलने लगी तो मैंने उनके मुँह पर हाथ रख दिया। वो बड़े-बड़े बोबे, दोनों हाथों से पकड़ो तो हाथ मे आयेंगे।

मैं सब कुछ भूल कर दूध पी रहा था उसका। वो भी जन्नत की हूर थी, कैसे आ गई मेरा रात रंगीन करने !!! जो गठीला बदन था, आजकल पैसा खर्चने पर भी वैसी आइटम नहीं मिलेगी। दोस्तों आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है l

जब मेरा मन भर गया ऊपर से तो मैंने नीचे की ओर देखा। उन्होंने सहमति में सर हिलाया। मैंने धीरे से साड़ी के भीतर हाथ डाला। पूरे पैर को सहलाते हुए जांघों तक पहुँचा। इस बीच उनके हाथ मेरे लुंगी के भीतर मेरे लोहे जैसे गर्म और सख्त टूल को टटोलने लगे थे। वो मेरे साइज से बेहद खुश थी।

एक ही बार में भूखी शेरनी जैसे भेड़िये को खाती है, मेरे तीसरे पैर को डाल लिया अपने मुँह में। मैं सिहर उठा। आज मैं सातवें आसमान में उड़ रहा था। मेरे हाथ अब उस चूत की ओर बढ रहे थे जिसे उन्होंने बताया कि 3-4 साल से जल रही थी। सच में किसी ऑवन से कम गर्मी न थी। पर सारा लव-होल एरिया जंगल से भरा था। वो चाहती थी, मैं चाटूं। पर बालों ने मेरा उत्साह कम कर दिया। पर उन्होंने मेरा मन खुश किया था, तो मैंने कहा कि आज मैं टेस्टर से चेक कर लूँ कि कितना कर्रेंट है, फिर कल मुँह डालूंगा, इतना गरम है कि क्या पता मुंह जल जाए।
वो मेरे बात से सहमत थी।

मैंने अपना रॉड गाड़ दिया उनके आग के कुंए में। कसम से आज मैं समझा कि जिसको हम चरित्रहीनता कहते हैं, वो उसके अन्तःमन की दबी हुई आग की चिन्गारी भर होती है,
एक सम्पूर्ण संतुष्टि का भाव था उनके चेहरे पर उस वक्त।

सालों से ना चुदने की वजह से उनके लव-स्पॉट की दीवारें तंग हो गई थी। बड़ी दिक्कत हो रही थी मुझे। मैं उठ कर अपने रसोई से मक्खन ले आया। गर्मी तो इधर इतनी थी कि मक्खन पिघलते देर नहीं लगी। खैर मैं उत्तेजना की वजह से दस मिनट से ज्यादा सम्हाल न सका। पर वो खुश थी। उसके बाद 2-3 दिन और रुके वो लोग l



loading...

और कहानिया

loading...

loading...
loading...

Online porn video at mobile phone


hendi sax storebhabhi ko jamkar chodasuhagraat sex picshindi sex audio story.comantarvassna hindi kahanihindi sexy kahani chudaikahane xxxsuhagrat sex storysex stories at hindisexxy stories in hindibhabhi koantarvasna hindi sex kahaniyatej chuddakkd videohindi bhabi sex storyhindi chudai kahani newsaxy bhabixxx bhabhi Patti kamar badly hinde sax.comhindi sxy khaniyaantar vasna hindiwap ni xxxhindi chudai bfwww.hindi sax stori.comkamukta indian hindi storieswww.hindi sexstori.comantrvashna hindi storysunita aunty ki nangi xxx photosex kahani in hindi fontsnaked.deshi.hindi.free.sex.stori.comerotic hindi sexhindi antrvasnaantervasana hindi sexy storiesantarvassna story in hindihindi saxy storisax pujarn aunty Hindi storysuhag raat ki kahaniindian sex kahani hindi mebur ki chudai hotAntarvasna Sex Kamuktamast hindi sexy storysexy story in hindi scripthinde sxsantaravasana hindi storyhindi chut ki kahanihindi adult kahaniyanjija sali sexy story in hindijija ke khatir seal tudwai hindisexstories.comantarwashana.com in hindi bahu ko chodaxxx haibe par truck driver ki chudai ki kahani www comantarvasna indian sex storiesantarvashna hindi storiesखोत मे चुवाई हिंदी कhindi sexy stroessexy xxx hindesachi kahaneyahindi sex stories of bhabhiनाना और माँ की क्सक्सक्स स्टोरीsaxy khani hindihindi sexy storie.combaap beti sex storytrue sexy story in hindisexy story in hindhichachi sex storiesdewar bhabhi sexy storieshindi sex story antervasanabehan sex storyantarvasna sex khanisexy stotysbhabhi ki storiबहुत दिन बाद पति ने चोदा आडियो कहानीindian chudai ki kahaniyadesi aunty ki nangi photo